Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मथुरा ( कृष्णकांत सारस्वत)। ब्रज की अमूल्य विरासत एवं ग्रंथ रूपी धरोहरों को सुरक्षित रूप से रखने के लिए वृंदावन शोध संस्थान का निर्माण किया गया था। जिसमें ग्रंथों एवं ब्रज की संस्कृति पर शोध करने के लिए सैकड़ों की संख्या में शोधार्थी यहां आते हैं।

वृंदावन शोध संस्थान में आगामी 24 से 26 नवंबर तक शोध संस्थान का 55 स्थापना दिवस मनाया जा रहा है। इस दौरान व्याख्यान ,समाज गायन ,भजन संध्या एवं कवि सम्मेलन आदि कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। कार्यक्रम की जानकारी देते हुए संस्थान के उपनिदेशक डॉक्टर एसपी सिंह ने बताया कि कार्यक्रम का शुभारंभ 24 नवंबर को प्रातः 11 बजे गोपाल सहस्रनाम से प्रारंभ होगा। इसी दिन ब्रज संस्कृति के विषय में वरिष्ठ संस्कृतविद डॉ राजेंद्र रंजन चतुर्वेदी अपना व्याख्यान प्रस्तुत करेंगे। द्वितीय सत्र में शाम 4:00 बजे मुंबई के प्रसिद्ध भजन गायक चरणजीत सिंह सोंधी द्वारा भजन संध्या प्रस्तुत की जाएगी एवं 25 नवंबर को संस्कृत व्याकरण विषय पर एक वृद्ध व्याख्यान का आयोजन किया जाएगा जिसमें मुख्य वक्ता हार्वर्ड विश्वविद्यालय अमेरिका की शोधार्थी राधा बलिंदर मान होंगी। कार्यक्रम के उपरांत समाज गायन परंपरा और विस्तार विषयक व्याख्यान राजस्थान ब्रजभाषा अकादमी के पूर्व अध्यक्ष डॉक्टर कृष्ण चंद्र गोस्वामी करेंगे। इसके पश्चात विभिन्न मंदिरों के समाज के द्वारा समाज गायन प्रस्तुत किया जाएगा एवं 26 नवंबर को ब्रजभाषा के कवियों द्वारा कवि सम्मेलन प्रस्तुत किया जाएगा आइए कौन है सभी जनमानस से कार्यक्रमों में सहभागिता करने का अनुरोध किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *